• Name
  • Email
बुधवार, 17 जुलाई 2019
 
 

जमाल खाशोगी समेत 4 पत्रकारों को टाइम पर्सन ऑफ द ईयर चुना गया

बुधवार, 12 दिसम्बर, 2018  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
अमेरिका की प्रतिष्ठित पत्रिका टाइम मैगजीन ने दुनिया भर के कई बहादुर पत्रकारों को इस साल का 'पर्सन ऑफ द ईयर' चुना है। पर्सन ऑफ द ईयर का सम्मान इस बार चार पत्रकारों और एक अखबार को संयुक्त रूप से दिया गया है। इन्हें पत्रिका ने दुनिया भर में लड़ी जा रही अनगिनत लड़ाइयों का प्रतिनिधि बताया है। इसमें कई ऐसे पत्रकार हैं जिनकी या तो हत्या कर दी गई या फिर उन्हें अपने काम के लिए सजा और उत्पीड़न का सामना करना पड़ा है।

इसमें सऊदी अरब के दिवंगत पत्रकार जमाल खाशोगी के अलावा म्यांमार सरकार द्वारा जेल में बंद किए गए समाचार एजेंसी रॉयटर्स के पत्रकार भी शामिल हैं। टाइम पत्रिका ने इस सबको अपनी कवर स्टोरी बनाकर 'द गार्जियन्स एंड द वॉर ऑन ट्रुथ' शीर्षक के साथ प्रकाशित किया है। इन लोगों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए उनके संघर्ष के लिए यह सम्मान मिला है। टाइम पत्रिका 1927 से पर्सन ऑफ द ईयर टाइटल से सम्मानित करता आ रहा है। इस सप्ताह के अंत में चार अलग-अलग कवर वाली पत्रिका प्रकाशित की गई है। प्रत्येक में अलग-अलग सम्मानितों को दिखाया गया है।

रॉयटर्स के दो पत्रकारों 32 साल के वा लोन और 28 साल के क्यो सू ओउ पर औपनिवेशिक काल के एक कानून आधिकारिक गोपनीयता एक्ट की धारा लगाकर म्यांमार सरकार ने करीब एक साल से जेल में बंद रखा हुआ है। इस मामले से पता चलता है कि म्यांमार में सही मायने में कितनी लोकतांत्रिक आजादी है। यह पत्रकार वहां से भगाए जा रहे रोहिंग्या मुसलमानों की रिपोर्टिंग कर रहे थे, जिससे सरकार नाराज थी।

वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार सऊदी अरब के जमाल खाशोगी 2 अक्तूबर को कुछ कागजात लेने के लिए इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास गए थे और उसके बाद लापता हो गए। घटना के कुछ दिन बाद तुर्क अधिकारियों ने कहा कि उन्हें मारने के इरादे से तुर्की भेजे गए 15 सऊदी अरब के एजेंटों ने पूर्व नियोजित साजिश के तहत उनकी हत्या कर दी। खाशोगी सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के आलोचक माने जाते थे।

इनके अलावा मैरीलैंड के एनापोलिस के अखबार 'कैपिटल गेजेट' भी चुना गया। जून में अखबार के दफ्तर पर हुए हमले में पांच लोग मारे गए थे। साथ ही फिलीपींस की पत्रकार मारिया रेसा को भी गार्जियन ऑफ ट्रूथ माना गया, जिन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था।

वर्ष 2016 में टाइम पर्सन ऑफ द ईयर रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस बार भी मुख्य दावेदार थे, लेकिन अंत में वह दूसरे स्थान पर रहे। 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की जाँच कर रहे विशेष काउंसर रॉबर्ट मुलर तीसरे स्थान पर रहे।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
तालिबान और अफगान नेताओं के बीच सरकार, विपक्ष और नागरिक समाज के प्रमुखों के बीच वार्ता अफगानिस्तान में ..
अमेरिकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस का कहना है कि ईरान को परमाणु हथियार बनाने की अनुमति कभी ..
 

खेल

 
इंग्लैंड ने असाधारण परिस्थितियों में पहली बार क्रिकेट विश्व कप जीता और टूर्नामेंट के 44 साल के इतिहास...
 

देश

 
जयराम रमेश की टिप्पणी | आधार और अन्य कानून संशोधन विधेयक, 2019। इस वीडियो ..
 
केंद्रीय बजट 2019 पर लोकसभा में शशि थरूर का भाषण। इस वीडियो को देखने के लिए इस ..