• Name
  • Email
बुधवार, 20 नवम्बर 2019
 
 

भारत-बांग्लादेश सीमा पर बीएसएफ़-बीजीबी के बीच फ़ायरिंग

वृहस्पतिवार, 17 अक्टूबर, 2019  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारत और बांग्लादेश की सीमा पर गुरुवार को हुई एक झड़प में सीमा सुरक्षा बल के एक जवान की मौत हो गई है।

बीएसएफ़ ने एक बयान जारी कर कहा कि बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश के साथ फ़्लैग मीटिंग के दौरान हुई इस गोलीबारी में हेड कॉन्स्टेबल विजय भान सिंह की मौत हो गई।

दूसरी तरफ़, बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश के राजशाही ज़िले के कमांडिंग ऑफ़िसर लेफ़्टिनेंट कर्नल फ़िरदौस महमूद ने बीबीसी बांग्ला से बातचीत में ये दावा किया कि बी एस एफ़ ने बांग्लादेश की सीमा में घुसकर पहले बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश पर फ़ायरिंग की और इसके बाद ही उनकी तरफ़ से जवाबी कार्रवाई की गई।

उन्होंने बताया कि दोनों पक्षों की फ़्लैग मीटिंग थी। उन्होंने बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश की तरफ़ से किसी के हताहत होने की जानकारी से इनकार किया।

उधर, बीएसएफ़ का ये कहना है कि हालात उस समय नियंत्रण से बाहर हो गए जब उनकी तरफ़ से कुछ भारतीय मछुआरों को गिरफ़्तार करने के लिए बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश से गुरुवार को संपर्क किया गया।

ये मछुआरे मुर्शिदाबाद ज़िले में भारत-बांग्लादेश सीमा पर पद्मा नदी में मछली पकड़ रहे थे।

बीएसएफ़ के एक अधिकारी बी एस गुलेरिया ने कहा, "शाम के पाँच बजे बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश के साथ एक फ़्लैग मीटिंग हुई। मीटिंग के बाद हिरासत में लिए गए मछुआरों ने वहां से आने के लिए इनकार कर दिया और फिर बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश के सैनिकों ने हमारे जवानों को चारों तरफ़ से घेर लिया।''

बीएस गुलेरिया ने बताया, "हालात बिगड़ने पर जब बीएसएफ़ के जवान स्पीडबोट की तरफ़ लौट रहे थे तो बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश ने अचानक गोली चलानी शुरू कर दी गई।''

हालांकि लेफ़्टिनेंट कर्नल फ़िरदौस महमूद ने बांग्लादेश सीमा के भीतर किसी बीएसएफ़ जवान की मौत से इनकार किया है।

हेड कॉन्स्टेबल विजय भान सिंह की मौत मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल पहुंचने से पहले ही हो गई थी।

घटना के बाद बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश और सीमा सुरक्षा बल के आला अधिकारियों के बीच फ़ोन पर बात हुई है।

इस सिलसिले में बी एस एफ़ के रिटायर्ड डीआईजी सलिल कुमार मित्र ने बीबीसी बांग्ला को बताया, "ये एक अभूतपूर्व घटना है। किसी फ़्लैग मीटिंग के दौरान अतीत में पहले कभी भी गोली चलने की घटना नहीं हुई थी।''

उन्होंने कहा, ''फ्लैग मीटिंग के दौरान दोनों पक्ष किसी मुद्दे पर सहमति बनाने के लिए बातचीत करते हैं।''

ये स्पष्ट नहीं है कि बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश ने गोली क्यों चलाई?
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
बाबरी मस्जिद लगभग 450-500 सालों से वहां थी। यह मस्जिद 6 दिसंबर 1992 में तोड़ दी गई। मस्जिद का तोड़ा ..
पहले अयोध्या सिर्फ़ एक क़स्बा था लेकिन अब फ़ैज़ाबाद ज़िले का नाम ही अयोध्या हो गया है। तो क्या...
 

खेल

 

देश