• Name
  • Email
शुक्रवार, 14 अगस्त 2020
 
 

साउथ चाइना सी के मुद्दे पर अमरीका-ऑस्ट्रेलिया वार्ता

बुधवार, 29 जुलाई, 2020  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
अमरीका और उसके करीबी सहयोगी देश ऑस्ट्रेलिया के बीच चीन के मुद्दे पर उच्च स्तरीय वार्ता हुई है। दोनों देशों के बीच इस बात पर सहमति बनी है कि नियम-कायदों पर आधारित विश्व व्यवस्था बरकरार रखी जाएगी।

हालांकि ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री ने ये बात भी जोर देकर कही कि बीजिंग के साथ कैनबेरा के रिश्ते अहम हैं और इसे नुक़सान पहुंचाने का उनका कोई इरादा नहीं है।

अमरीकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो और रक्षा मंत्री माइक एस्पर और उनके ऑस्ट्रेलियाई समकक्षों के बीच वाशिंगटन में दो दिनों तक ये वार्ता हुई है।

कोरोना महामारी और स्वदेश वापस लौटने पर दो हफ़्तों के क्वारंटीन के नियम के बावजूद ऑस्ट्रेलिया के नेता इस बातचीत के लिए वाशिंगटन पहुंची थीं।

मंगलवार को एक साझा प्रेस सम्मेलन में माइक पॉम्पियो ने चीन के दबाव के सामने अपने रुख पर बने रहने के लिए ऑस्ट्रेलिया की तारीफ की।

उन्होंने कहा कि साउथ चाइना सी में क़ानून का शासन फिर से शुरू करने के लिए अमरीका और ऑस्ट्रेलिया साथ मिलकर काम जारी रखेंगे।

साउथ चाइना सी पर चीन अपना दावा जताता है जबकि इस इलाके में उसकी दखलंदाज़ी पर अमरीका और उसके सहयोगी देश विरोध करते हैं।

साउथ चाइना सी के आस-पास के देशों के बीच तनाव की स्थिति है और सामुद्रिक परिवहन की आज़ादी को लेकर चिंता जताई जा रही है।

ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री मैरीज़ पेन ने कहा कि अमरीका और ऑस्ट्रेलिया 'रूल ऑफ़ लॉ' को लेकर प्रतिबद्ध हैं। इसका उल्लंघन करने वाले देशों को नियंत्रित किया जाएगा। उन्होंने हॉन्ग कॉन्ग में आज़ादी के अधिकार में कटौती के मामले का भी उदाहरण दिया।

उन्होंने कहा कि दोनों पक्ष एक वर्किंग ग्रुप बनाने पर सहमत हुए हैं जो कोरोना वैक्सीन और महामारी पर सहयोग की संभावना तलाशने और नुक़सानदेह सूचनाओं पर निगरानी रखेगी।

इसी दौरान मैरीज़ पेन ने ये भी कहा कि ऑस्ट्रेलिया चीन के मुद्दे पर हर बात से सहमत नहीं है और न ही वो हर बात पर अमरीका के साथ है।

मैरीज़ पेन ने कहा, ''चीन के साथ हमारे जो रिश्ते हैं, वो महत्वपूर्ण है। और उन्हें नुक़सान पहुंचाने का हमारा कोई इरादा नहीं है। न तो हमारी मंशा कुछ ऐसा करने की है जो हमारे हितों के ख़िलाफ़ हो। एशिया प्रशांत क्षेत्र में ऑस्ट्रेलिया और अमरीका के साझा हित हैं। लेकिन हम हर बात से सहमत नहीं है। और ये हमारी सौ सालों की दोस्ती, आदरपूर्ण संबंधों का हिस्सा है।''

हालांकि मैरीज़ पेन ने इस बात का जिक्र नहीं किया कि अमरीका से ऑस्ट्रेलिया के किन मुद्दों पर असहमति है।

लेकिन उन्होंने इतना ज़रूर कहा कि उनका देश अपने राष्ट्रीय हितों और सुरक्षा को ध्यान में रखकर फ़ैसले करता है।

''हम चीन के साथ भी उसी तरह निभाते हैं। हमारे मजबूत आर्थिक रिश्ते हैं, दूसरे संबंध हैं और ये दोनों देशों के हितों के अनुरूप काम करता है।''
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय के ताज़ा आंकड़ों के अनुसार देश में बीते चौबीस घंटों में कोरोना संक्रमण के ..
आईसीसी से मिली जानकारी के अनुसार साल 2021 का टी-20 वर्ल्ड कप भारत और 2022 का टी-20 वर्ल्ड कप ऑस्ट्रेलिया ..
 

खेल

 
आईसीसी से मिली जानकारी के अनुसार साल 2021 का टी-20 वर्ल्ड कप भारत और 2022 का टी-20 वर्ल्ड कप ऑस्ट्रेलिया ..
 
एक महीने की ब्रेक के बाद बंगलुरु में ट्रेनिंग बेस पर लौटते वक्त पहले इन खिलाड़ियों की रिपोर्ट निगेटिव...
 

देश

 
भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय के ताज़ा आंकड़ों के अनुसार देश में बीते चौबीस घंटों में कोरोना संक्रमण के ..
 
भारत छोड़ो आंदोलन की 78वीं वर्षगाँठ पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने महात्मा गांधी को याद किया ..