• Name
  • Email
वृहस्पतिवार, 1 अक्टूबर 2020
 
 

भारत ने कहा, चीनी सैनिकों ने एलएसी पर पूर्वी लद्दाख में गोली चलाई

मंगलवार, 8 सितम्बर, 2020  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारतीय सेना ने वास्तविक नियंत्रण रेखा एलएसी पर चीनी सेना के गोलीबारी करने की पुष्टि करते हुए आरोप लगाया है कि चीनी सेना खुल्लमखु्ल्ला समझौतों का उल्लंघन कर रही है और आक्रामक हरकतें कर रही है।

सेना ने अपने एक बयान में कहा है, ''सात सितंबर, सोमवार को चीनी सेना (पीएलए) के सैनिक एलएसी पर भारत के एक पोज़िशन की ओर बढ़ने की कोशिश कर रहे थे, और जब हमारे सैनिकों ने उन्हें भगाया तो उन्होंने हवा में कई राउंड फ़ायर कर हमारे सैनिकों को डराने की कोशिश की।''

भारतीय सेना ने कहा कि इस उकसाऊ हरकत के बावजूद भारतीय सैनिकों ने संयम बरता और परिपक्व व ज़िम्मेदार बर्ताव किया।

भारतीय सेना ने आरोप लगाया कि चीन के वेस्टर्न थिएटर कमांड ने अपने बयान से अपने देश के भीतर और अंतरराष्ट्रीय जगत को गुमराह करने की कोशिश की है।

इससे पहले चीन ने दावा किया था कि सोमवार को एलएसी पर तैनात भारतीय सैनिकों ने एक बार फिर ग़ैर-क़ानूनी तरीक़े से वास्तविक सीमा रेखा को पार किया और चीनी सीमा पर तैनात सैनिकों पर वॉर्निंग शॉट्स फ़ायर किए।

चीन के मुताबिक़ चीनी सैनिक बातचीत करने वाले थे। चीन की सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने चीनी सेना के एक प्रवक्ता के हवाले से लिखा है कि हालात को स्थिर करने के लिए चीनी सैनिकों को मजबूर होकर जवाबी कार्रवाई करनी पड़ी।

भारतीय समाचार एजेंसी एएनआई ने भी कहा है कि एलएसी पर पूर्वी लद्दाख में फ़ायरिंग हुई है।

चीनी सेना के प्रवक्ता सीनियर कर्नल जांग शियूली ने एक बयान जारी कर कहा, ''भारतीय सैनिकों ने भारत-चीन सीमा के पश्चिमी हिस्से में एलएसी को पार किया और पंन्गोंग त्सो लेक के दक्षिणी किनारे के नज़दीक शेनपाओ पहाड़ के इलाक़े में घुस गए।''

बयान के अनुसार भारतीय सेना के इस क़दम ने दोनों पक्षों के बीच जो सहमति बनी थी, ये उसका गंभीर उल्लंघन है, और इसने इलाक़े में तनाव बढ़ा दिया है.

चीनी सेना के प्रवक्ता के अनुसार इससे दोनों पक्षों में ग़लतफ़हमी बढ़ेगी और यह गंभीर सैन्य भड़काऊ और घिनौनी कार्रवाई है।

प्रवक्ता ज़ाँग ने कहा, ''हम भारतीय पक्ष से माँग करते हैं कि वो इस तरह के ख़तरनाक हरकतों को फ़ौरन बंद करें, जिन सैनिकों ने एलएसी को पार किया है उन्हें तुरंत वापस बुलाएं, सीमा पर तैनात सैनिकों को क़ाबू में रखें, इस मामले की गंभीरता से जाँच करें और जिन सैनिकों ने भी वार्निंग शॉट्स फ़ायर किए हैं उनको सज़ा दें और ये भी सुनिश्चित करें कि ऐसी घटनाएं दोबारा न हों।''

भारत-चीन विदेश मंत्रियों की बैठक

चीनी सेना के प्रवक्ता ने कहा कि चीनी सैनिक अपनी क्षेत्रीय संप्रभुता की रक्षा करेंगे।

ये ताज़ा विवाद ऐसे समय में पैदा हुआ है जब भारत और चीन के विदेश मंत्री आपस में मिलने वाले हैं।

भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर मंगलवार को चार दिवसीय यात्रा पर मॉस्को जा रहे हैं। जयशंकर शंघाई सहयोग संगठन के विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए मॉस्को जा रहे हैं।

आठ सदस्यों वाले शंघाई सहयोग संगठन के भारत और चीन दोनों ही हिस्सा हैं।

इस दौरान एस जयशंकर अपने चीनी समकक्ष वांग यी से भी द्विपक्षीय बैठक करेंगे।

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार हो सकता है कि एस जयशंकर मॉस्को जाते समय तेहरान में थोड़ी देर रुककर ईरान के विदेश मंत्री जव्वा ज़रीफ़ से भी मुलाक़ात करें।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
यह दुनिया दो वैश्विक शक्तियों के टकराव को बर्दाश्त करने के लिए तैयार नहीं है। इसलिए हमें हर वो प्रयास ..
पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के रिपोर्ट हुए 86,961 नए मामलों के साथ सोमवार को भारत में संक्रमण से प्रभावित...
 

खेल

 

देश

 
पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के रिपोर्ट हुए 86,961 नए मामलों के साथ सोमवार को भारत में संक्रमण से प्रभावित...
 
जूलियो रिबेरो मुंबई पुलिस के कमिश्नर रह चुके हैं। साथ ही वो गुजरात और पंजाब पुलिस के महानिदेशक भी रह ..