• Name
  • Email
रविवार, 17 जनवरी 2021
 
 

गायक गुरु रंधावा मुंबई में हिरासत में लिए जाने के बाद छूटे

मंगलवार, 22 दिसम्बर, 2020  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना और गायक गुरु रंधावा को मुंबई स्थित ड्रैगन क्लब में हुई एक रेड के दौरान हिरासत में लिया गया। हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया गया।

मुंबई में मौजूद पत्रकार मधु पाल से पुलिस के विश्वसनीय सूत्रों ने इस कार्रवाई की पुष्टि की है।

बाद में सुरेश रैना की तरफ़ से एक बयान जारी कर बताया गया कि वे मुंबई में एक शूटिंग कर रहे थे जो देर रात तक चला।

बयान में कहा गया है, ''सुरेश मुंबई में एक शूटिंग के सिलसिले में थे जो देर तक चला। एक दोस्त की दावत के बाद वे थोड़े समय के लिए डिनर पर गए थे। इसके बाद उन्हें दिल्ली के लिए फ्लाइट पकड़नी थी। उन्हें स्थानीय टाइमिंग और प्रोटोकॉल की जानकारी नहीं थी। जैसे ही उन्हें इसके बारे में बताया गया, उन्होंने फौरन इसका पालन किया। उन्हें दुर्भाग्यपूर्ण और ग़ैर इरादतन हुई घटना पर अफसोस है। वे हमेशा नियमों का पालन करते हैं और इसके लिए सम्मान रखते हैं। भविष्य में भी वे ऐसा करते रहेंगे।''

जानकारी के मुताबिक़ मुंबई पुलिस ने क्लब पर रात तीन बजे रेड मारी और होटल स्टाफ समेत 34 लोगों पर कार्रवाई की गई। 34 में से 19 लोग दिल्ली और पंजाब के थे, जबकि बाकी दक्षिण मुंबई से। हालांकि सभी लोगों को नोटिस देकर रिहा कर दिया गया।

इन लोगों पर कोविड नियमों का उल्लंघन करने का आरोप है और इन पर महामारी ऐक्ट के तहत मामला दर्ज करने की तैयारी चल रहा है।

बताया जा रहा है कि मुंबई के बाहर के लोग सुबह 7 बजे की फ्लाइट लेकर दिल्ली लौट गए। जिन पर कार्रवाई हुई है, उनमें कई सेलेब्रिटी शामिल हैं।

इनमें क्रिकेटर सुरेश रैना, गायक गुरु रंधावा और सुजैन रोशन खान का नाम है। जानकारी के मुताबिक़, जिस क्लब पर रेड मारी गई, वो बादशाह का ही है।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वो 20 जनवरी 2021 को अमेरिका के अगले राष्ट्रपति जो...
अमेरिकी संसद की स्पीकर नैन्सी पेलोसी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से फ़ौरन कार्यालय छोड़ने को...
 

खेल

 

देश

 
किसान नेताओं ने कहा कि नीतिगत मुद्दों को अदालत के ज़रिए तय नहीं किया जाना चाहिए, अदालत केवल क़ानूनों की...
 
भारत के प्रान्त पंजाब के किसान संगठनों ने शनिवार (09 जनवरी 2021) को कहा कि केंद्र ने कृषि कानूनों का सुप्रीम...