• Name
  • Email
शुक्रवार, 23 अप्रैल 2021
 
 

क्या एस्ट्राज़ेनेका की कोरोना वैक्सीन से दिमाग़ में ख़ून के थक्के जमने का ख़तरा है?

बुधवार, 7 अप्रैल, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका की कोरोना वैक्सीन लगवाने वाले कई लोगों के मस्तिष्क में असामान्य रूप से ख़ून के थक्के पाए गए हैं।

वैक्सीन लेने के बाद कई लोगों में सेरेब्रल वेनॉस सिनस थ्रोम्बोसिस (सीवीएसटी) यानी मस्तिष्क के बाहरी सतह पर ड्यूरामैटर की परतों के बीच मौजूद शिराओं में ख़ून के थक्के देखे गए हैं।

ऐसे कुछ मामले सामने आने के बाद जर्मनी समेत फ्रांस और कनाडा ने एस्ट्राज़ेनेका की कोरोना वैक्सीन पर सीमित पाबंदी लगा दी है।

हॉप्किन्स मेडिसिन्स के अनुसार सीवीएसटी के कारण रक्त कोशिकाएं टूट सकती हैं जिससे मस्तिष्क की कोशिकाओं में ख़ून लीक हो सकता है जिससे ब्रेन हेमरेज का ख़तरा हो सकता है।

हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी ने कहा है कि वैक्सीन के ख़तरों के मुक़ाबले इससे होने वाले फ़ायदे कहीं अधिक हैं।

विश्वभर के वैज्ञानिक और दवाई सुरक्षा नियामक ये जानने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या ब्रेन स्ट्रोक वाकई वैक्सीन के कारण ही हो रहे हैं? ये कितना बड़ा ख़तरा हो सकता है और कोरोना टीकाकरण कार्यक्रम के लिए इस ख़तरे के क्या मायने हो सकते हैं?

क्या वैक्सीन के कारण ख़ून के थक्के जम रहे हैं?

अब तक की बात करें तो इसके बारे में पुख्ता तौर पर अभी कोई जानकारी नहीं है।

वैक्सीन सुरक्षा से संबंधित सेफ्टी डेटा की समीक्षा कर रही यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी का कहना है कि अब तक ऐसा कुछ साबित नहीं हुआ है लेकिन ये संभव है।

यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी फिलहाल ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या मस्तिष्क में ख़ून के थक्के जमना वैक्सीन का साइड-इफेक्ट है या फिर संयोग से प्राकृतिक रूप से आए हैं।

लेकिन ये समस्या इतनी दुर्लभ है कि इसका पता लगाना इतना आसान भी नहीं है।

कई वैज्ञानिक इस संभावना को खारिज करते हैं जबकि कई इस बात से सहमत हैं कि वैक्सीन से ख़ून के थक्के जमने का ख़तरा हो सकता है।

कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि ये अजीब तरह के ख़ून के थक्के हैं जो इस बात की ओर इशारा करते हैं कि कुछ गड़बड़ हो सकती है।

ख़ून के ये थक्के उस वक्त दिखना शुरू होते हैं जब ख़ून में प्लेटलेट्स की संख्या कम होने लगती है। ख़ून के थक्कों में प्लेटलेट्स अधिक संख्या में होते हैं। इसी समय ख़ून के थक्के जमने से जुड़ी समस्या से निपटने के लिए एंटीबॉडी दिखने लगते हैं।

लेकिन कुछ जानकारों का मानना है कि इस बात के पर्याप्त सबूत नहीं हैं और जो मामले नज़र आए हैं, उनमें इसका कारण सीओवीआईडी-19 हो सकता है। कोरोना वायरस संक्रमण के कई मामलों में ख़ून के थक्के जमना भी एक लक्षण होता है।

ये कितना बड़ा ख़तरा हो सकता है?

कहा जा सकता है कि अब तक ये साबित नहीं हुआ है कि वैक्सीन लगवाने के कारण ही मस्तिष्क में ख़ून में थक्के बने हैं। ऐसे में ये संभव है कि वैक्सीन के कारण इसका कोई ख़तरा न हो।

जर्मनी के पॉल अर्लिच इंस्टीट्यूट ने अनुसार, अब तक 2.7 मिलियन लोगों को कोरोना की वैक्सीन दी गई है जिनमें से 31 मामलों में सेरेब्रल वेनॉस सिनस थ्रोम्बोसिस के मामले दर्ज किए गए हैं और इस कारण 9 मौतें हुई हैं।

ब्रिटेन के ताज़ा आंकड़े बताते हैं कि जिन 18 मिलियन लोगों को वैक्सीन लगाई गई है, उनमें से मस्तिष्क में ख़ून के थक्के जमने के 30 मामलों में मरीज़ों में प्लेटलेट्स की संख्या बेहद कम पाई गई और इस कारण 7 लोगों की मौत हुई है।

दुनियाभर में टीकाकरण से जुड़े आंकड़ों की समीक्षा करने के बाद यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी ने बताया है कि एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन लगवाने वाले 60 साल की उम्र तक के 100000 लोगों में से एक व्यक्ति में सेरेब्रल वेनॉस सिनस थ्रोम्बोसिस यानी सीवीएसटी देखा गया है।

एजेंसी की वैक्सीन सेफ्टी प्रमुख डॉक्टर पीटर आर्लेट का कहना है, ''जितनी उम्मीद थी ये उससे अधिक है।''

हालांकि अब तक ये नहीं पता कि जिन मामलों में मस्तिष्क में ख़ून के थक्के पाए गए, उनमें से कितने मामलों में पहले से ही मरीज़ को कोई समस्या थी।

इस संबंध में वैज्ञानिक अलग-अलग आकलन देते हैं। कुछ मानते हैं कि प्रत्येक 10 लाख में से दो मामलों में सामान्य तौर पर ख़ून के थक्के पाए जा सकते हैं, जबकि कुछ का मानना है कि प्रत्येक 10 लाख में से 16 मामलों में ऐसा हो सकता है। हालांकि इसका कारण कोरोना वायरस भी हो सकता है।

ब्रिटेन और जर्मनी के आंकड़ों में फ़र्क क्यों?

अगर वाकई में कोरोना वैक्सीन लगवाने के कारण सीवीएसटी के मामले सामने आ रहे हों तो उम्मीद की जा सकती है कि अलग-अलग देशों में ये मामले वैक्सीन के अनुपात के अनुसार ही दिखेंगे।

लेकिन जर्मनी के मुक़ाबले ब्रिटेन ने सात गुना अधिक लोगों को कोरोना की वैक्सीन दी है। इसके बावजूद वहां और जर्मनी में दर्ज किए गए सीवीएसटी के मामले लगभग बराबर हैं।

इसकी एक दलील ये दी जा रही है कि जिन लोगों को वैक्सीन दी गई है वो अलग-अलग उम्र के हैं।

ब्रिटेन में सबसे पहले बुज़ुर्गों को वैक्सीन लगाई गई जिसके बाद उनसे कम उम्र के लोगों को वैक्सीन दी जा रही है। वहीं 65 साल से अधिक उम्र के लोगों में वैक्सीन के असर को लेकर ट्रायल डेटा न होने के कारण जर्मनी ने पहले बुज़ुर्गों को वैक्सीन देने से इनकार कर दिया।

जर्मनी में जितने लोगों को कोरोना वैक्सीन दी गई है, उनमें से 90 फीसदी लोगों को एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन दी गई है और माना जा रहा है कि इनमें से अधिकतर 60 साल से कम उम्र के हैं।

युवाओं में आम तौर पर रोग प्रतिरोधक शक्ति अधिक होती है और इनमें वैक्सीन के साइड इफेक्ट गंभीर रूप ले सकते हैं। माना जा रहा है कि ब्रिटेन में वैक्सीन के साइड इफेक्ट के मामले कम होने की ये एक बड़ी वजह हो सकती है।

लेकिन युवा महिलाओं में सीवीएसटी की समस्या अधिक देखी जाती है ख़ास कर जो महिलाएं गर्भनिरोधक गोलियां लेती हैं, उनमें इसका ख़तरा बढ़ सकता है। ऐसे में भले ही लोगों को वैक्सीन दी जाए या नहीं, प्राकृतिक कारणों से भी मस्तिष्क में ख़ून के थक्के जमने का ख़तरा हो सकता है।

इसके सही कारणों का पता लगाना बेहद चुनौतीपूर्ण है, लेकिन यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी ने कहा है कि उम्र, लिंग या फिर मेडिकल हिस्ट्री के आधार पर इसे लेकर किसी तरह का ख़ास ख़तरा नहीं पाया गया है।

क्या एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन सुरक्षित है?

मेडिसिन की बात करें तो ऐसा नहीं कहा जा सकता कि सभी दवाएं सुरक्षित होती हैं। कभी-कभी तो सही स्थिति को देखते हुए डॉक्टर घातक ज़हर का इस्तेमाल भी दवा के तौर पर करते हैं।

कीमोथैरपी में इस्तेमाल होने वाली दवाओं के गंभीर साइड-इफेक्ट्स होते हैं, लेकिन ये बेहद महत्वपूर्ण होते हैं। यहां तक कि पैरासिटामोल और आइबूप्रोफ़ेन के भी गंभीर साइड-इफ्केट हो सकते हैं, लेकिन बीमारी को देखते हुए ये दवाएं देना ज़रूरी हो जाता है।

असल में दवा देने का फ़ैसला इस बात पर निर्भर करता है कि इससे होने वाला लाभ, इससे होने वाले नुक़सान से अधिक है या नहीं।

महामारी के दौर में ये काम और अधिक चुनौतीपूर्ण हो जाता है। आम तौर पर दवाएं ''ऐहतियात के सिद्धांत'' पर काम करती हैं यानी जब तक दवा की सुरक्षा साबित नहीं हो जाती, अधिक लोगों को नहीं दी जाती।

लेकिन महामारी के दौर में लोगों को वैक्सीन देने में देरी करने का मतलब होता अधिक ज़िंदगियों को ख़तरे में डालना।

केवल जर्मनी के आंकड़ों को देखा जाए तो आप कह सकते हैं कि 10 लाख लोगों में से 12 लोगों में मस्तिष्क में ख़ून के थक्के दिखने की संभावना हो सकती है और इस कारण चार की मौत हो सकती है।

लेकिन अगर 60 साल से अधिक की उम्र के लोगों में, दस लाख लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण हो जाता है तो सीओवीआईडी-19 के कारण उनमें से 20,000 की मौत हो सकती है।

और अगर 40 साल से अधिक की उम्र वाले दस लाख लोग कोरोना वायरस से संक्रमित होते हैं तो सीओवीआईडी-19 के कारण इनमें से 1,000 की मौत हो सकती है। तीस की उम्र के लोगों की बात करें तो मौतों का आंकड़ा कुछ सौ तक ही होगा।

स्पष्ट तौर पर कोरोना की वैक्सीन का फायदा अधिक उम्र वालों में दिखता है और जर्मनी और कनाडा जैसे देशों में अधिक उम्र वाले नागरिकों के लिए एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन के इस्तेमाल को मंज़ूरी दी गई है।

किसी देश के लिए ये फ़ैसला इस बात पर निर्भर करता है कि उनके पास वैक्सीन के कौन से विकल्प मौजूद हैं और उनके सामने किस उम्र के नागरिकों को वैक्सीन देने की ज़रूरत है।

इस संबंध में एकत्र किए गए डेटा की गहन समीक्षा की जा रही है, लेकिन इस बारे में स्पष्ट जानकारी मिलने का अभी हमें इंतज़ार करना होगा।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
झारखण्ड की राजधानी राँची और पूर्वी सिंहभूम ज़िलों से हाल में लिये गए सैंपलों में से कम से कम 33 प्रतिशत सैंपलों में सीओवीआईडी के यूके स्ट्रेन और डबल म्यूटेंट वाले वायरस की पुष्टि हुई ...
एक सप्ताह पहले तक भारत, कुल मामलों के लिहाज़ से अमेरिका और ब्राज़ील के बाद तीसरे स्थान पर था। लेकिन पिछले एक सप्ताह में भारत में बहुत तेज़ी से संक्रमण बढ़ा है। कोरोना के कुल मामलों के लिहाज़ से ...
 

खेल

 
एकदिवसीय क्रिकेट की दुनिया के शीर्ष क्रम के बल्लेबाज़ों की आईसीसी रैंकिंग में लंबे समय से टॉप पर रहे विराट कोहली का ताज बुधवार, 14 अप्रैल, 2021 को उस वक्त छिन गया जब पाकिस्तान क्रिकेट टीम ...
 

देश

 
भारत में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार, 20 अप्रैल 2021 को केंद्र की मोदी सरकार की वैक्सीन नीति की आलोचना करते हुए ये आरोप लगाया कि ये भेदभावपूर्ण है और इसमें समाज के कमजोर तबकों ...
 
कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने मनमोहन सिंह के जल्द ठीक होने की कामना करते हुए कहा कि हम आपके जल्द ठीक होने की कामना करते हैं। इस मुश्किल घड़ी में देश को आपके ...