• Name
  • Email
रविवार, 20 जून 2021
 
 

पश्चिम बंगालः गिरफ़्तार टीएमसी विधायक और पूर्व मंत्री अस्पताल में भर्ती

मंगलवार, 18 मई, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारत के राज्य पश्चिम बंगाल में नारदा स्टिंग मामले में गिरफ़्तार तृणमूल कांग्रेस के विधायक मदन मित्रा और तृणमूल कांग्रेस के पूर्व नेता और पूर्व मंत्री शोभन चटर्जी को साँस में तकलीफ़ की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार उन्हें मंगलवार, 18 मई 2021 को तड़के तीन बजे कोलकाता के एक सरकारी अस्पताल एसएसकेएम में भर्ती कराया गया।

मंगलवार, 18 मई 2021 को ममता बनर्जी सरकार में वरिष्ठ मंत्री सुब्रत मुखर्जी को भी जाँच के लिए अस्पताल लाया गया है।

नारदा स्टिंग मामले में ममता बनर्जी सरकार के दो मंत्रियों समेत चार नेताओं को सोमवार, 17 मई 2021 की रात कोलकाता की प्रेसिडेंसी जेल भेज दिया गया।

सीबीआई ने सोमवार, 17 मई 2021 को दिन में मंत्री सुब्रत मुखर्जी और फ़िरहाद हकीम, टीएमसी विधायक मदन मित्रा और टीएमसी के पूर्व नेता शोभन चटर्जी को गिरफ़्तार किया था।

शाम को सीबीआई की विशेष अदालत ने चारों नेताओं को अंतरिम ज़मानत दे दी थी मगर रात को कलकत्ता हाई कोर्ट ने इस फ़ैसले पर रोक लगा दी।

तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने कहा है कि वो अपने नेताओं की गिरफ़्तारी को अदालत में चुनौती देंगे।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
भारत के राज्य बिहार में सीओवीआईडी की पहली और दूसरी लहर में वायरस संक्रमण के कारण 9 जून 2021 तक 9429 मौतें हो चुकी हैं। 9 जून 2021 तक ये आंकड़ा 5478 का था जिसमें 3951 अतिरिक्त ...
मॉस्को की एक कोर्ट ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन के आलोचक एलेक्सी नवेनली के राजनीतिक संगठन को प्रतिबंधित कर दिया है और इसे 'चरमपंथी' बताया है। अगर इस संगठन का कोई कार्यकर्ता काम ...
 

खेल

 
न्यूज़ीलैंड का मुक़ाबला करने वाली विराट कोहली की टीम में तीन तेज़ गेंदबाज़ और दो स्पिनरों को जगह दी गई है। यानी भारत ने पांच गेंदबाज़ों को आजमाने का फ़ैसला किया है ...
 
शनिवार, 19 जून 2021 को भारत के राज्य पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मिल्खा सिंह के घर जाकर उनके परिवार को सांत्वना दी और उनके प्रति सम्मान जताया ...
 

देश

 
कपिल सिब्बल कांग्रेस के उन 23 नेताओं में शामिल थे जिन्होंने साल 2020 में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर पार्टी में सार्थक सुधारों की मांग की थी और इसके बाद पार्टी में सियासी तूफान ...
 
युद्ध के इतिहास को समय से प्रकाशित होने पर लोगों को घटनाओं की सही जानकारी मिलेगी, शैक्षिक रिसर्च के लिए प्रमाणिक सामग्री उपलब्ध होगी और साथ ही इससे ग़ैर ज़रूरी अफ़वाहों को दूर करने में ...