• Name
  • Email
रविवार, 20 जून 2021
 
 

जम्मू-कश्मीरः आतंकवादियों ने बीजेपी पार्षद राकेश पंडिता की हत्या की

वृहस्पतिवार, 3 जून, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारत के केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में भारतीय जनता पार्टी के एक पार्षद राकेश पंडिता की आतंकवादियों ने हत्या कर दी है। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा समेत सभी राजनीतिक दलों के नेताओं ने इस घटना की निंदा की है।

कश्मीर के आईजी विजय कुमार ने बताया है कि पुलवामा में बुधवार, 02 जून 2021 की देर शाम बीजेपी नेता राकेश पंडिता सोमनाथ की गोली मार कर हत्या कर दी गई है।

समाचार एजेंसी पीटीआई ने पुलिस प्रवक्ता के हवाले से जानकारी दी है कि बुधवार, 02 जून 2021 की देर शाम जम्मू और कश्मीर से बीजेपी काउंसिलर राकेश पंडिता पुलवामा के त्राल इलाक़े में अपने मित्र से मुलाक़ात करने पहुंचे थे।

बुधवार, 02 जून 2021 को रात क़रीब 10.15 बजे तीन अज्ञात बंदूकधारियों ने उन पर गोलियां चलाईं। इस हमले में राकेश पंडिता बुरी तरह घायल हुए। बाद में अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में उनकी मौत हो गई।

हमले में उनके मित्र की बेटी को भी गोलियां लगी हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी हालत गंभीर बताई जा रही है।

पुलिस प्रवक्ता के अनुसार, ''राकेश पंडिता को पुलिस सुरक्षा मुहैय्या कराई गई थी। उनके साथ हमेशा दो निजी सुरक्षा अधिकारी रहा करते थे। साथ ही श्रीनगर में रहने के लिए उन्हें एक सुरक्षित आवास भी दिया गया था।''

बताया जा रहा है कि घटना के वक्त राकेश पंडिता सुरक्षा प्रक्रिया का उल्लंघन कर बिना निजी सुरक्षा अधिकारियों के दक्षिण कश्मीर में बसे अपने पुश्तैनी गांव गए थे।

इस मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है और छानबीन में जुट गई है। पुलिस प्रवक्ता का कहना है कि पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि हमले के वक्त उनसे साथ निजी सुरक्षा अधिकारी क्यों नहीं थे।

बीते एक साल में जम्मू कश्मीर में पांच बीजेपी नेताओं की हत्या हुई है। राकेश पंडिता की हत्या के बाद नेताओं की दी जाने वाली सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुनर्विचार किया जा रहा है। यहां अधिकतर नेताओं के लिए श्रीनगर में सुरक्षित आवास की व्यवस्था की गई है।

जम्मू कश्मीर के उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा, पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती और जम्मू कश्मीर पीपल्स कॉन्फ्रेंस नेता सज्जाद लोन समेत कई पार्टियों के नेताओं ने हमले की कड़ी आलोचना की है।

उप-राज्यपाल ने कहा, ''पुलवामा के त्राल में काउंसिलर राकेश पंडिता पर हुए आतंकवादी हमले की ख़बर से मुझे दुख पहुंचा है। मैं हमले की निंदा करता हूं। मुश्किल के इस वक्त में मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवार के साथ है।''

उन्होंने कहा कि इस घटना के लिए ज़िम्मेदार लोगों को सज़ा दी जाएगी और "आतंकवादी अपने बुरे इरादों में कभी कामयाब नहीं होंगे"।

वहीं जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने हादसे पर दुख जताया है।

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीटर पर लिखा, ''बीजेपी नेता राकेश पंडिता की आतंकवादियों द्वारा गोली मारकर हत्या की ख़बर से मैं हैरान हूं। इस तरह की हिंसा की घटनाओं ने जम्मू-कश्मीर को केवल दुख पहुंचाया है।''

जम्मू-कश्मीर पीपल्स कॉन्फ्रेंस नेता सज्जाद लोन ने कहा है कि बंदूक एक तरह का अभिशाप है जिसे जम्मू कश्मीर के लोगों ने झेला है।

उन्होंने ट्वीटर पर लिखा, ''बंदूकधारियों ने एक बार फिर एक बेकसूर व्यक्ति पर गोलियां चलाईं। ये बंदूक एक अभिशाप है। एक बार सोचिए कि जब से ये कश्मीर में आया है तब से हमने यहां क्या-क्या देखा है। क्या ये बंदूकधारी वहां लौट कर नहीं जा सकते जहां से आए हैं? हम काफी कुछ देख चुके हैं।''

जम्मू-कश्मीर की बीजेपी शाखा के महासचिव अशोक कौल ने हत्या की इस घटना को "बर्बर" करार दिया है।

उन्होंने इसे कायराना हरकत बताया और कहा कि इस तरह की घटनाओं से चरमपंथी ज़मीनी स्तर पर काम कर रहे बीजेपी नेताओं का मनोबल कम नहीं कर सकेंगे।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
भारत के राज्य बिहार में सीओवीआईडी की पहली और दूसरी लहर में वायरस संक्रमण के कारण 9 जून 2021 तक 9429 मौतें हो चुकी हैं। 9 जून 2021 तक ये आंकड़ा 5478 का था जिसमें 3951 अतिरिक्त ...
भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार बीते चौबीस घंटों में देश में कोरोना संक्रमण के 94,052 नए मामले दर्ज किए गए हैं। वहीं सीओवीआईडी-19 के कारण भारत में बीते चौबीस घंटों में ...
 

खेल

 
न्यूज़ीलैंड का मुक़ाबला करने वाली विराट कोहली की टीम में तीन तेज़ गेंदबाज़ और दो स्पिनरों को जगह दी गई है। यानी भारत ने पांच गेंदबाज़ों को आजमाने का फ़ैसला किया है ...
 
शनिवार, 19 जून 2021 को भारत के राज्य पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मिल्खा सिंह के घर जाकर उनके परिवार को सांत्वना दी और उनके प्रति सम्मान जताया ...
 

देश

 
कपिल सिब्बल कांग्रेस के उन 23 नेताओं में शामिल थे जिन्होंने साल 2020 में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर पार्टी में सार्थक सुधारों की मांग की थी और इसके बाद पार्टी में सियासी तूफान ...
 
युद्ध के इतिहास को समय से प्रकाशित होने पर लोगों को घटनाओं की सही जानकारी मिलेगी, शैक्षिक रिसर्च के लिए प्रमाणिक सामग्री उपलब्ध होगी और साथ ही इससे ग़ैर ज़रूरी अफ़वाहों को दूर करने में ...