• Name
  • Email
रविवार, 20 जून 2021
 
 

गूगल, फ़ेसबुक जैसी कंपनियों पर 15 फ़ीसदी तक टैक्स लगाने का फ़ैसला

रविवार, 6 जून, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
दुनिया के सबसे अमीर देशों के समूह जी-7 ने दुनिया की बड़ी बहुराष्ट्रीय तकनीकी कंपनियों पर ज़्यादा टैक्स लगाने का फ़ैसला किया है।

जी-7 समूह ने गूगल, फ़ेसबुक, ऐपल और अमेज़ॉन जैसी बड़ी कंपनियों पर 15 फ़ीसदी तक टैक्स लगाने के लिए करार किया लेकिन प्रचारकों का दावा है कि यह क़रार लंबे समय तक नहीं टिक सकेगा।

लंदन में जी-7 देशों के वित्त मंत्रियों की बैठक में फ़ैसला लिया गया कि जहां पर कंपनियां अपना व्यापार करती हैं वहां पर उन्हें एक उचित टैक्स देना होगा।

बैठक में बहुराष्ट्रीय कंपनियों पर 15 फ़ीसद तक टैक्स लगाने पर सहमति बनी।

इस फ़ैसले से टेक दिग्गज कंपनियों के प्रभावित होने की संभावना है लेकिन उन्होंने इन नए नियमों का स्वागत किया है।

हालांकि ग़ैरसरकारी संस्था ऑक्सफैम ने कहा है कि वैश्विक स्तर पर न्यूनतम कॉर्पोरेट कर की जो दर तय की गई उससे कोई बहुत अंतर नहीं आ सकेगी।

इस शिखर सम्मेलन की मेज़बानी करने वाले ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने कहा कि करार 21वीं सदी के लिए एक उचित कर प्रणाली तय करेगा।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
भारत के राज्य बिहार में सीओवीआईडी की पहली और दूसरी लहर में वायरस संक्रमण के कारण 9 जून 2021 तक 9429 मौतें हो चुकी हैं। 9 जून 2021 तक ये आंकड़ा 5478 का था जिसमें 3951 अतिरिक्त ...
भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार बीते चौबीस घंटों में देश में कोरोना संक्रमण के 94,052 नए मामले दर्ज किए गए हैं। वहीं सीओवीआईडी-19 के कारण भारत में बीते चौबीस घंटों में ...
 

खेल

 
न्यूज़ीलैंड का मुक़ाबला करने वाली विराट कोहली की टीम में तीन तेज़ गेंदबाज़ और दो स्पिनरों को जगह दी गई है। यानी भारत ने पांच गेंदबाज़ों को आजमाने का फ़ैसला किया है ...
 
शनिवार, 19 जून 2021 को भारत के राज्य पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मिल्खा सिंह के घर जाकर उनके परिवार को सांत्वना दी और उनके प्रति सम्मान जताया ...
 

देश

 
कपिल सिब्बल कांग्रेस के उन 23 नेताओं में शामिल थे जिन्होंने साल 2020 में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर पार्टी में सार्थक सुधारों की मांग की थी और इसके बाद पार्टी में सियासी तूफान ...
 
युद्ध के इतिहास को समय से प्रकाशित होने पर लोगों को घटनाओं की सही जानकारी मिलेगी, शैक्षिक रिसर्च के लिए प्रमाणिक सामग्री उपलब्ध होगी और साथ ही इससे ग़ैर ज़रूरी अफ़वाहों को दूर करने में ...