• Name
  • Email
बुधवार, 20 अक्टूबर 2021
 
 

असम के दरंग ज़िले में 12 घंटे का बंद जारी, फायरिंग में दो लोगों की हुई थी मौत

शुक्रवार, 24 सितम्बर, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारत के राज्य असम के दरंग ज़िले में शुक्रवार, 24 सितम्बर 2021 को अल्पसंख्यक समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाले विभिन्न संगठनों ने 12 घंटे के बंद का आह्वान किया है। जिसका असर जनजीवन पर भी पड़ा है।

गुरुवार, 23 सितम्बर 2021 को दरंग ज़िले के सिपाझार मंडल के तहत आने वाले गांवों में अतिक्रमण हटाने गयी पुलिस और कथित अतिक्रमकारियों के बीच हुई झड़प में दो लोगों की मौत हो गई है और क़रीब 11 लोग इस झड़प में घायल हुए हैं।

ऑल माइनॉरिटी ऑर्गनाइजेशन कोऑर्डिनेशन कमेटी के बुलाए गए बंद में अब तक किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है। इसमें ऑल असम माइनॉरिटी स्टूडेंट्स यूनियन और जमीयत-ए-उलेमा भी शामिल हैं।

बंद के कारण सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद हैं और गिने-चुने वाहन ही सड़क पर नज़र आ रहे हैं।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सिपाझार के गोरोईखुटी, धौलपुर गांवों में सुरक्षाबल की तैनाती की गई है और पूरे ज़िले में भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने दरंग के उपायुक्त कार्यालय के बाहर इस घटना के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन किया है।

पुलिस महानिदेशक भास्कर ज्योति महंत ने खुद क़ानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की।

रिटायर जज करेंगे जांच

असम सरकार ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं। असम सरकार के गृह विभाग की विज्ञप्ति में कहा गया है कि गुवाहाटी हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज के नेतृत्व में जांच कराई जाएगी। जांच में घटनाओं की परिस्थितियों का पता लगाया जाएगा।

गंभीर रूप से घायल लोगों में तीन पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। एक पुलिसकर्मी और तीन नागरिकों की हालत नाज़ुक बताई गई है, जबकि बाकी लोगों की हालत स्थिर है।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने गुरुवार, 23 सितम्बर 2021 को कहा था कि अतिक्रमण के ख़िलाफ़ चल रहे अभियान को रोका नहीं जाएगा। और ''कथित अवैध अतिक्रमणकारियों'' की जमीन को साफ कराने का काम पूरा होने तक जारी रहेगा।

असम सरकार के एक आदेश के बाद 20 सितंबर 2021 को दरंग ज़िले के सिपाझार में प्रशासन ने एक अभियान चलाकर लगभग 4,500 बीघा भूमि पर कब्जा करने वाले कम से कम 800 परिवारों को बेदखल कर दिया था।

जबकि क़रीब दो सौ परिवार के ख़िलाफ़ गुरुवार, 23 सितम्बर 2021 की सुबह फिर से बेदखली अभियान चलाया गया था और तभी यह फायरिंग की घटना हुई।

असम सरकार ने 'अवैध अतिक्रमण' के नाम पर जिन सैकड़ों लोगों के ख़िलाफ़ बेदखली अभियान चलाया है वे सारे मुसलमान है। एक जानकारी के अनुसार सरकारी ज़मीन खाली कराने के बाद सैकड़ों लोगों ने नदी के किनारे शरण ले रखी है।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
चीन ने कहा है कि वे भारत के उप-राष्ट्रपति एम. वैंकेया नायुडू के हालिया अरुणाचल प्रदेश दौरे का विरोध करता है। चीन के विदेश विभाग के प्रवक्ता ज़ाओ लिजियान ने बुधवार, 13 अक्टूबर 2021 को ...
भारत के राज्य केरल में भारी बारिश और बाढ़ के कारण नौ लोगों की जान चली गई है और 20 लोग लापता हैं। केरल के कोट्टायम और इडुक्की ज़िलों में घरों के मलबे और भूस्खलन के बीच ...
 

खेल

 

देश

 
भारत के जम्मू संभाग में नियंत्रण रेखा से सटे पुंछ ज़िले के घने जंगलों में छिपे आतंकवादियों ने गुरुवार, 14 अक्टूबर 2021 की देर शाम भारतीय सेना की टुकड़ी पर एक दफा फिर घात लगा ...
 
भारत में शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत ने रविवार, 17 अक्टूबर 2021 को बीजेपी और केंद्र सरकार पर केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया है। उन्होंने आरोप लगाया ...