• Name
  • Email
बुधवार, 20 अक्टूबर 2021
 
 

मारिया रेस्सा और दिमित्रि मुरातोव को साल 2021 का नोबेल शांति पुरस्कार

शनिवार, 9 अक्टूबर, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
फिलीपीन की पत्रकार मारिया रेस्सा और रूसी पत्रकार दिमित्रि मुरातोव को वर्ष 2021 के नोबेल शांति पुरस्कार के लिए चुना गया है। यह पुरस्कार उन्हें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए उनके संघर्ष को लेकर दिया गया है।

विजेताओं की घोषणा शुक्रवार, 8 अक्टूबर 2021 को नॉर्वेजियन नोबेल समिति के अध्यक्ष बेरिट रीस-एंडरसन ने की।

विजेता का चयन करने वाली नॉर्वे की समिति ने कहा कि दोनों ही पत्रकारों ने फिलिपींस और रूस में 'अभिव्यक्ति की आजादी की रक्षा' के लिए पूरे जज्बे और बहादुरी के साथ लड़ाई लड़ी'।

समिति ने कहा, ''स्वतंत्र, निष्पक्ष और तथ्य-आधारित पत्रकारिता सत्ता के दुरुपयोग, झूठ और युद्ध से बचाने का काम करती है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और प्रेस की स्वतंत्रता के बिना, राष्ट्रों के बीच भाईचारे और निरस्त्रीकरण को बढ़ावा देना बेहद मुश्किल होगा।''

रेस्सा ने कहा, ''तथ्यों के बिना कुछ भी संभव नहीं। तथ्यों के बिना दुनिया बिल्कुल वैसी ही है जैसे वह सच और विश्वास के बिना होगी।''

इस पुरस्कार में विजेता को गोल्ड मेडल व 10 मिलियन स्वीडिश क्रोनोर (1.14 मिलियन अमेरिकी डालर यानी करीब साढ़े 8 करोड़ रुपये) भेंट किए जाते हैं।

साल 2020 में यह पुरस्कार विश्व खाद्य कार्यक्रम को दिया गया था, जिसकी स्थापना 1961 में विश्व भर में भूख से निपटने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति ड्वाइट आइजनहावर के निर्देश पर की गई थी। रोम से काम करने वाली संयुक्त राष्ट्र की इस एजेंसी को वैश्विक स्तर पर भूख से लड़ने और खाद्य सुरक्षा के प्रयासों के लिए यह पुरस्कार दिया गया था।

इस साल अन्य कैटेगरी के नोबेल पुस्कार

साहित्य का नोबल पुरस्कार
गुरुवार, 7 अक्टूबर 2021 को तंजानिया में जन्मे अब्दुर्रज्जाक गरनाह को साल 2021 के साहित्य के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया। उन्हें उपनिवेशवाद के प्रभावों और शरणार्थियों की समस्या को बिना समझौता किए करुणा के साथ दर्शाने के लिए इस प्रतिष्ठित पुरस्कार से नवाजा जाएगा।

रसायन का नोबेल पुरस्कार
जर्मनी के बेंजामिन लिस्ट और स्कॉटलैंड में जन्मे डेविड डब्ल्यूसी मैकमिलन ने साल 2021 में रसायन शास्त्र के क्षेत्र में दिया जाने वाला नोबेल पुरस्कार अपने नाम किया। नोबेल समिति ने अणुओं के विकास का नया तरीका खोज निकालने के लिए उन्हें बुधवार, 6 अक्टूबर 2021 को इस पुरस्कार से नवाजे जाने की घोषणा की।

भौतिकी का नोबेल पुरस्कार
जलवायु परिवर्तन की समझ को बढ़ाने समेत जटिल प्रणालियों पर काम करने के लिए जापान, जर्मनी और इटली के तीन वैज्ञानिकों को वर्ष 2021 में संयुक्त रूप से भौतकी के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया। जापान के रहने वाले 90 वर्षीय स्यूकूरो मनाबे और जर्मनी के 89 वर्षीय क्लॉस हैसलमैन को पृथ्वी की जलवायु की भौतिक मॉडलिंग, ग्लोबल वॉर्मिंग के पूर्वानुमान की परिवर्तनशीलता और प्रामाणिकता के मापन क्षेत्र में उनके कार्यों के लिए चुना गया। तो वहीं इटली के 73 वर्षीय जॉर्जियो पारिसी को परमाणु से लेकर ग्रहों के मानदंडों तक भौतिक प्रणालियों में विकार और उतार-चढ़ाव की परस्पर क्रिया की खोज के लिए वर्ष 2021 का भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा।

चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार
अमेरिकी वैज्ञानिकों डेविड जूलियस और आर्डम पेटापोशियन को वर्ष 2021 के चिकित्सा के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया। उन्हें तापमान और स्पर्श के लिए 'रिसेप्टर' की खोज के लिए यह सम्मान दिया गया।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
चीन ने कहा है कि वे भारत के उप-राष्ट्रपति एम. वैंकेया नायुडू के हालिया अरुणाचल प्रदेश दौरे का विरोध करता है। चीन के विदेश विभाग के प्रवक्ता ज़ाओ लिजियान ने बुधवार, 13 अक्टूबर 2021 को ...
भारत के राज्य केरल में भारी बारिश और बाढ़ के कारण नौ लोगों की जान चली गई है और 20 लोग लापता हैं। केरल के कोट्टायम और इडुक्की ज़िलों में घरों के मलबे और भूस्खलन के बीच ...
 

खेल

 

देश

 
भारत के जम्मू संभाग में नियंत्रण रेखा से सटे पुंछ ज़िले के घने जंगलों में छिपे आतंकवादियों ने गुरुवार, 14 अक्टूबर 2021 की देर शाम भारतीय सेना की टुकड़ी पर एक दफा फिर घात लगा ...
 
भारत में शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत ने रविवार, 17 अक्टूबर 2021 को बीजेपी और केंद्र सरकार पर केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया है। उन्होंने आरोप लगाया ...