Warning: session_start(): open(/tmp/sess_84s5411bfaov3p5o98kh1oplm6, O_RDWR) failed: Disk quota exceeded (122) in /home/perwezanwer/public_html/article.php on line 20
 IBTN Khabar - breaking and true news portal
  • Name
  • Email
वृहस्पतिवार, 9 दिसम्बर 2021
 
 

कृषि कानूनों की वापसी की पीएम मोदी की घोषणा पर विपक्ष और किसानों ने क्या कहा?

शुक्रवार, 19 नवम्बर, 2021  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार, 19 नवम्बर 2021 को राष्ट्र को संबोधित करते हुए तीनों कृषि क़ानूनों को वापस लेने की घोषणा की है। तीनों कृषि क़ानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर देश भर में किसान पिछले एक साल से विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं।

मोदी सरकार अब तक तीनों कृषि क़ानूनों को वापस लेने के लिए तैयार नहीं थी। लेकिन शुक्रवार, 19 नवम्बर 2021 को पीएम मोदी ने संबोधित करते हुए कहा, ''आज मैं आपको, पूरे देश को, ये बताने आया हूँ कि हमने तीनों कृषि क़ानूनों को वापस लेने का निर्णय लिया है। इस महीने के अंत में शुरू होने जा रहे संसद सत्र में, हम इन तीनों कृषि क़ानूनों को रद्द करने की संवैधानिक प्रक्रिया को पूरा कर देंगे।''

पीएम मोदी की इस घोषणा के बाद किसान नेताओं से लेकर विपक्षी दलों के नेताओं तक की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।

पीएम मोदी की घोषणा पर राकेश टिकैत ने कहा, आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा

तीनों कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ आंदोलन के अगुआ रहे भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने भारत के पीएम नरेंद्र मोदी की घोषणा पर ट्वीट कर कहा, ''आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा, हम उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि क़ानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा। सरकार MSP के साथ-साथ किसानों के दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करे।''

राहुल गाँधी कृषि क़ानून वापस लेने पर बोले- अहंकार का सिर झुका

कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने अपना एक पुराना वीडियो पोस्ट रीट्वीट करते हुए लिखा है, ''देश के अन्नदाता ने सत्याग्रह से अहंकार का सर झुका दिया। अन्याय के ख़िलाफ़ ये जीत मुबारक हो। जय हिंद, जय हिंद का किसान!"

राहुल गाँधी का यह पुराना वीडियो 14 जनवरी 2021 का है। राहुल इसमें कह रहे हैं, ''मैं किसानों के साथ खड़ा हूँ और रहूँगा। मेरी बात को आप ध्यान से सुन लीजिए। यह सरकार तीनों कृषि क़ानूनों को वापस लेने पर मजबूर होगी।''

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी पर निशाना साधा, किसानों को दी बधाई

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने ट्वीट करके किसानों को बधाई दी है। ममता बनर्जी ने लिखा है- हर एक किसान को जिसने संघर्ष किया और जिस तरह का सुलूक आपके साथ @BJP4India ने किया आप उससे विचलित नहीं हुए।

यह आपकी जीत है!

इस लड़ाई में अपने प्रियजनों को खोने वाले सभी लोगों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है।

मोदी के पास और कोई विकल्प नहीं था: ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी तीनों कृषि क़ानूनों को वापस लेने पर तंज़ करते हुए पीएम मोदी को निशाने पर लिया है। ओवैसी ने एक शेर में लिखा है, ''दहन पर हैं उन के गुमाँ कैसे-कैसे, कलाम आते हैं दरमियाँ कैसे-कैसे, ज़मीन-ए-चमन गुल खिलाती है क्या-क्या, बदलता है रंग आसमाँ कैसे-कैसे।''

ओवैसी ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा है, ''कृषि क़ानून शुरू से ही असंवैधानिक था। सरकार के अहंकार के कारण किसानों को सड़क पर उतरना पड़ा। अगर सरकार बाल हठ नहीं करती तो 700 से ज़्यादा किसानों की जान नहीं जाती। किसान आंदोलन को बधाई। पंजाब और उत्तर प्रदेश में बीजेपी की पतली हालत को देखते हुए मोदी के पास और कोई विकल्प नहीं था।''

तत्काल वापस नहीं होगा किसान आंदोलनः संयुक्त किसान मोर्चा

संयुक्त किसान मोर्चा ने पीएम मोदी की घोषणा का स्वागत किया लेकिन उन्होंने ये भी कहा कि वो चल रहे आंदोलन को तुरंत वापस नहीं लेंगे।

संयुक्त किसान मोर्चा ने ये भी कहा कि विरोध प्रदर्शन सिर्फ़ नए कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ नहीं बल्कि फ़सलों के लाभकारी दाम की वैधानिक गारंटी के लिए भी था, जिस पर अभी भी कुछ फ़ैसला नहीं हुआ है।

संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से जारी बयान में कहा गया कि संयुक्त किसान मोर्चा तीन कृषि क़ानूनों को रद्द करने के सरकार के फ़ैसले का स्वागत करता है लेकिन वे संसदीय प्रक्रियाओं के माध्यम से घोषणा के प्रभावी होने तक इंतज़ार करेंगे।

संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि हम सभी तीन किसान विरोधी क़ानूनों को निरस्त करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फ़ैसले का स्वागत करते हैं लेकिन घोषणा के प्रभावी होने का इंतज़ार करेंगे। और अगर ऐसा होता है तो ये भारत में एक साल से अधिक समय तक चले किसान संघर्ष की ऐतिहासिक जीत होगी।

किसानों ने अपनी जान की बाज़ी लगाकर किसानी और किसानों को बचाया: अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस घोषणा को बड़ी खुशखबरी बताया। उन्होंने ट्वीट किया, ''आज प्रकाश दिवस के दिन कितनी बड़ी ख़ुशख़बरी मिली। तीनों क़ानून रद्द। 700 से ज़्यादा किसान शहीद हो गए। उनकी शहादत अमर रहेगी। आने वाली पीढ़ियाँ याद रखेंगी कि किस तरह इस देश के किसानों ने अपनी जान की बाज़ी लगाकर किसानी और किसानों को बचाया था।''

किसान भाई चुनावों में नरेंद्र मोदी की सरकार को सबक सिखा रहे थे: संजय सिंह

आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने कहा, ''आज देश के करोड़ों अन्नदाताओं की जीत हुई है। अन्नदाताओं के आंदोलन की बदौलत, लंबे संघर्ष की बदौलत, उनकी शहादत और कुर्बानी की बदौलत नरेंद्र मोदी जी की अहंकारी और तानाशाह सरकार को झुकना पड़ा और तीनों काले क़ानून वापस लेने पड़े। ये तीन क़ानून इसलिए वापस लिए गए क्योंकि किसान भाई चुनाव दर चुनाव नरेंद्र मोदी जी की सरकार को सबक सिखा रहे थे।"

भाजपा बताए सैंकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सज़ा कब मिलेगी: अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा, ''अमीरों की भाजपा ने भूमिअधिग्रहण व काले क़ानूनों से ग़रीबों-किसानों को ठगना चाहा। कील लगाई, बाल खींचते कार्टून बनाए, जीप चढ़ाई लेकिन सपा की पूर्वांचल की विजय यात्रा के जन समर्थन से डरकर काले-क़ानून वापस ले ही लिए। भाजपा बताए सैंकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सज़ा कब मिलेगी।''
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
भारतीय वायुसेना ने बताया है कि चीफ़ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ़ जनरल बिपिन रावत की मौत हो गई है। जनरल रावत का हेलिकॉप्टर बुधवार, 8 दिसम्बर 2021 को क्रैश हो गया था। इस हादसे में उनकी पत्नी ...
 

खेल

 

देश

 
भारतीय वायुसेना ने बताया है कि चीफ़ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ़ जनरल बिपिन रावत की मौत हो गई है। जनरल रावत का हेलिकॉप्टर बुधवार, 8 दिसम्बर 2021 को क्रैश हो गया था। इस हादसे में उनकी पत्नी ...