• Name
  • Email
वृहस्पतिवार, 20 जनवरी 2022
 
 

कज़ाख़स्तान में रूसी सेना के जाने पर अमेरिका को कड़ा ऐतराज

शनिवार, 8 जनवरी, 2022  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
कज़ाख़स्तान में सरकार के ख़िलाफ़ हिंसक विरोध प्रदर्शनों से निपटने के लिए रूसी सेना को बुलाने का अमेरिका ने कड़ा विरोध करते हुए इस पर कई सवाल खड़े किए हैं।

अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा है कि इतिहास दिखाता है कि एक बार रूसी जब आपके घर में घुसते हैं तो फिर उन्हें बाहर निकालना बहुत मुश्किल होता है।

वहीं रूस ने कह दिया है कि उसके सुरक्षाबलों की तैनाती एक साझा सुरक्षा समझौते के तहत है जो कि अस्थाई है।

दूसरी ओर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भी कज़ाख़स्तान में स्थिरता कायम करने के लिए कड़े क़दम उठाने का समर्थन किया है।

चीन का कज़ाख़स्तान में भारी निवेश है और चीन के शिंजियांग प्रांत से कज़ाख़स्तान की सीमा लगती है। शिंजियांग में ही चीन को वीगर मुसलमानों के व्यवहार के प्रति वैश्विक आलोचनाओं का सामना करना पड़ता रहा है।

महंगाई के ख़िलाफ़ प्रदर्शन

कज़ाख़स्तान में बढ़ते तेल के दामों के ख़िलाफ़ शुरू हुए विरोध प्रदर्शनों में अब तक दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

कज़ाख़स्तान के राष्ट्रपति कासिम जोमार्त तोकाएव ने बताया है कि सुरक्षाबलों ने अल्माटी शहर को वापस अपने नियंत्रण में ले लिया है।

अल्माटी शहर में मौजूद बीबीसी संवाददाता ने तबाही के मंज़र के बारे में बताया है कि कैसे इमारतों को आग लगाई गई है और लूटा गया है और क्षतिग्रस्त कारों में शव पड़े हुए हैं।

रूस की सेना पहुंची कज़ाख़स्तान

कज़ाख़स्तान के राष्ट्रपति कासिम जोमार्त तोकाएव ने इस हिंसा के लिए विदेशों में ट्रेनिंग लेने वाले आतंकियों को ज़िम्मेदार ठहराया है।

हालांकि, उन्होंने ये स्पष्ट नहीं किया है कि वे इस नतीजे पर कैसे पहुंचे।

इसी बीच कज़ाख़स्तान के अनुरोध पर रूस के नेतृत्व वाली सेना कज़ाख़्स्तान पहुंच चुकी है।

कज़ाख़स्तान के गृह मंत्रालय का कहना है कि 26 हथियारबंद अपराधियों को मार दिया गया है और हिंसा में 18 सुरक्षा अधिकारी भी मारे गए हैं।

गृह मंत्रालय का कहना है कि तीन हज़ार से अधिक लोगों को गिरफ़्तार किया गया है।

हालांकि, प्रभावित क्षेत्र में इंटरनेट बंद है और बहुत कम जानकारी सामने आ रही है।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक़ पूरे देश में 70 चेक प्वाइंट्स लगाए गए हैं।

कज़ाख़स्तान के राष्ट्रपति ने सरकार विरोधी प्रदर्शनों के मद्देनज़र सुरक्षाबलों को बिना चेतावनी दिए गोली मारने का आदेश दिया है।

कज़ाख़स्तान में वैसे तो कई दिनों से विरोध प्रदर्शन हो रहे थे, लेकिन गुरुवार, 6 जनवरी 2022 को कज़ाख़स्तान के सबसे बड़े शहर अल्माटी की सड़कों पर हिंसा भड़क उठी।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
तालिबान के कार्यकारी रक्षा मंत्री मुल्ला मोहम्मद याकूब मुजाहिद ने ताजिकिस्तान और उज़्केकिस्तान से अपील की है कि वो अफ़गान विमानों और हेलिकॉप्टरों को लौटा दें। उन्होंने कहा है कि ऐसा ...
भारत में बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्षा और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने रविवार, 9 जनवरी 2022 को पत्रकारों से कहा कि 'चुनावों को धार्मिक रंग देकर संकीर्ण राजनीति' की ...
 

खेल

 
टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच के ऑस्ट्रेलिया में दाख़िल होने की क़ानूनी लड़ाई के दौरान ऑस्ट्रेलिया की ओर से पेश हुए वकीलों ने कहा है कि ऑस्ट्रेलिया ने जोकोविच को चिकित्सा छूट के ...
 
स्टार टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच को ऑस्ट्रेलिया में हिरासत में ले लिया गया है। उनके ऑस्ट्रेलिया से प्रत्यर्पण को लेकर अदालत में होने वाली सुनवाई से पहले उन्हें हिरासत में लिया ...
 

देश

 
भारत में बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्षा और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने रविवार, 9 जनवरी 2022 को पत्रकारों से कहा कि 'चुनावों को धार्मिक रंग देकर संकीर्ण राजनीति' की ...
 
भारतीय वायुसेना ने बताया है कि जनरल बिपिन रावत की मौत जिस हेलिकॉप्टर हादसे में हुई थी, उसमें कोई 'साज़िश या लापरवाही नहीं हुई थी।' भारत के पहले चीफ़ ऑफ़ डिफेंस स्टॉफ़ ...