• Name
  • Email
सोमवार, 28 नवम्बर 2022
 
 

COP27: ग़रीब देशों को हो रहे नुकसान की भरपाई के लिए फंड पर सहमति बनी

रविवार, 20 नवम्बर, 2022  आई बी टी एन खबर ब्यूरो
 
 
मिस्र के शर्म-अल-शेख़ में चल रहे संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में उस ऐतिहासिक समझौते पर सहमति बन गई है, जिसके तहत जलवायु परिवर्तन से होने वाले नुकसान के लिए ग़रीब देशों को भुगतान किया जाएगा।

दो हफ़्ते की वार्ता के बाद आख़िरकार प्रतिनिधि देश ग़रीब देशों को ''नुकसान और क्षति'' की भुगतान के लिए एक फंड बनाने को तैयार हुए हैं।

विकसित देश ऐतिहासिक रूप से जलवायु परिवर्तन के लिए प्रमुख तौर पर ज़िम्मेदार रहे हैं, और आने वाले समय में उन्हें इसका भुगतान करना होगा।

इसी डर से अमीर देश अब तक इस फंड के गठन पर चर्चा के आयोजन का विरोध करते रहे हैं, लेकिन हाल के वर्षों में पाकिस्तान, नाइजीरिया और अन्य जगहों पर बाढ़ के प्रभावों ने जलवायु संतुलन को बुरी तरह प्रभावित किया है।

वहीं मिस्र में बढ़ते तापमान के कारण होने वाले नुकसान और इससे जुड़े मुद्दे आख़िरकार बातचीत के एजेंडे में शामिल हो गए।

COP27 की बैठक 6 नवंबर 2022 से 18 नवंबर 2022 तक चलनी थी लेकिन गरीब देशों के फंड को लेकर जारी वार्ता पर चर्चा पूरी करने और निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए इसे बढ़ाया गया।

शिखर सम्मेलन के मेज़बान और COP27 के अध्यक्ष समेह शौकरी ने जैसे ही ग़रीब देशों के लिए इस ऐतिहासिक सौदे की घोषणा की, कमरे में तालियां बजने लगीं।
 
 
 
 
 
 
 
 
 

खास खबरें

 
अमेरिकी सेना के शीर्ष जनरल मार्क मिले ने कहा है कि अगर चीन ताइवान पर हमला करता है तो ये उसके लिए एक रणनीतिक चूक होगी ...
अमेरिका की रिपब्लिकन पार्टी ने हाल ही में संपन्न हुए मध्यावधि चुनाव में अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा में अपना दबदबा कायम कर लिया है ...
 

खेल

 
क़तर में रंगारंग कार्यक्रम के साथ फ़ुटबॉल वर्ल्ड कप शुरू हो गया है ...
 
फ़ीफ़ा विश्व कप में दो बार के विश्व चैंपियन अर्जेंटीना पर सऊदी अरब की जीत के बाद बुधवार, 23 नवम्बर 2022 को एक और बड़ा उलट-फेर हुआ है। आज बारी जापान की थी ...
 

देश

 
भारत के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने शनिवार, 19 नवम्बर 2022 को कहा कि निचली अदालत के जज गंभीर मामलों में ज़मानत देने से बचते हैं क्योंकि उन्हें एक तरीके का डर ...
 
भारत के सुप्रीम कोर्ट ने अरुण गोयल को 19 नवंबर 2022 को चुनाव आयुक्त नियुक्त किए जाने के तरीके पर कड़ी नाराज़गी जताई है ...